ब्रेकिंग न्यूज़

उच्च न्यायालय में विचाराधीन प्रकरण के दौरान आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए दबंग ने दुकान पर किया कब्ज़ा ,कोतवाली पुलिस अधिकारियों को गुमराह कर फर्जी आख्या लगाने में जुटी********

राशिद अली

Advertisement

नानपारा(बहराइच)NNI 24:- कोतवाली क्षेत्र के कवाबची गली में उच्च न्यायालय व ज़िला जज की न्यायालय में विचाराधीन प्रकरण के दौरान विपक्षी दुकान मालिक ने किरायेदार की गैर मौजूदगी में दुकानों में रखा लगभग 3 लाख रुपए के सामान के साथ दुकान का ताला तोड़कर दुकानों में कब्ज़ा कर लिया है और कोतवाली पुलिस उक्त प्रकरण में अभी तक मुकदमा दर्ज नहीं कर पाई है हमारी मित्र और तेज़ तर्रार कोतवाली नानपारा की पुलिस वैसे कोतवाली पुलिस कोई फर्जी मुकदमा हो जिसमें मोटी रकम मिलने वाली हो तो तत्काल तहरीर मिलते ही मुकदमा दर्ज कर लेती है और नामजद आरोपी का घर खोदना शुरू कर देती है जिससे की दबाव बना कर अवैध रूप से मोटी रकम वसूली जा सके मगर जो प्रकरण सत्य होता है उस पर मुकदमा दर्ज करने में कोई दिलचस्पी नहीं दिखाते हैं फिर चाहे उसमे न्यायालय की गरिमा धूमिल हो या कुछ भी हो जाये ऐसा ही एक मामला वर्तमान समय में सामने आया है कि पीड़ित ने 14 अकटुबर को तहरीर दी की न्यायालय में विचाराधीन प्रकरण के दौरान दुकान मालिक ने न्यायालय के आदेश की अवहेलना करते हुए दुकान पर कब्ज़ा कर लिया है मोहल्ला कबड़िया टोला निवासी हाजी लियाक़त अली पुत्र अज़मत अली ने मोहल्ला निवासी रसूल अहमद पुत्र छोटे मियां से सन 1981 में एक दो मंजिला दुकान किराये पर ली थी और उस समय फल मंडी इसी स्थान पर थी उनको किरायेदारी से बेदखल करने के लिए रसूल अहमद ने कोर्ट में मुकदमा दर्ज करा दिया उस समय किरायेदार लियाक़त अली ने रसूल अहमद से कहा था कि मुकदमा पेशी मत करो जब यहाँ से फल मंडी कहीं और चली जायेगी तो उक्त दुकान खाली कर देंगे पर दुकान मालिक नहीं माना और कोर्ट में केश कर दिया जिसपर लियाक़त अली किरायेदार ने अपील की तो 1998 में जिला मजिस्ट्रेट ने उनकी किरायेदारी को बरकरार रखने का आदेश जारी किया था 1981 से लेकर आज तक किरायेदार हाजी लियाक़त अली उक्त दुकान में किरायेदार और कब्जे दार थें और उच्च न्यायालय में दुकान का किराया भी जमा करते हैं मगर बीते 12/13 अक्तूबर 2019 की रात्रि को कोर्ट के आदेश की धज्जियां उड़ाते हुए दुकान मालिक ने दुकान का ताला तोड़कर सामान और दुकान पर जबरन कब्ज़ा कर लिया इसकी जानकारी 14 अक्तूबर 2019 को किरायेदार हाजी लियाक़त अली को होई तो उन्होंने स्थानीय कोतवाली पर जाकर उक्त प्रकरण के संबंध में तहरीर दी मगर आज तक कोतवाली पुलिस ने इस पर कोई कार्यवाही नहीं की है जबकि पीड़ित यूपी के गृह सचिव, पुलिस महानिदेशक ,अपर पुलिस महानिदेशक,पुलिस महानिरीक्षक,पुलिस उपनिरीक्षक ,के साथ पुलिस अधीक्षक ,पुलिस उप अधीक्षक,कोतवाली प्रभारी से मिलकर तहरीर दे चुका है मगर कोई भी कार्यवाही नहीं की जा रही है कोतवाली नानपारा पुलिस उच्च अधिकारियों को फर्जी आख्या प्रेषित कर रही है कोतवाली पुलिस आख्या में बता रही है कि प्रकरण में आदेश के निर्देशानुसार स्थिति बहाल है जबकि दुकान मालिक ने कब्ज़ा कर लिया है तो कोर्ट के निर्देशानुसार स्थिति बहाल कैसे है पीड़ित व्यक्ति का कहना है कि कुछ दिन पूर्व चौकी प्रभारी राजा बाजार चंद्रपाल ने कोतवाली बुलाया था और दूसरी तहरीर देने का दबाव बना रहे थे कह रहे थे की तहरीर में जो रसूल अहमद पुत्र छोटे मियां और सलमान पुत्र रहमान का जो नाम है उसको हटाकर दूसरी तहरीर दो यह दोनों लोग अच्छे आदमी है इनके ऊपर हम कार्यवाही नहीं करेंगे इन दोनों के अतिरिक्त चाहे जिस भी व्यक्ति का नाम दे दो हम मुकदमा दर्ज कर देंगे पीड़ित व्यक्ति का कहना है कि की मुख्य आदमी रसूल अहमद का नाम हटाने को कहा जा रहा है अब अगर इनका नाम हटा दिया गया तो मुक़दमे का मकसद क्या रह जायेगा जब दारोगा की बात पीड़ित व्यक्ति ने नहीं मानी तो पुलिस ने दोनों पक्ष पर 107/116 की कार्यवाही कर दी है और मामले को रफा दफा करने की तैयारी कोतवाली पुलिस कर रही है अब यह बहुत सोचनीय विषय है कि कोतवाली नानपारा पुलिस उच्च न्यायालय के आदेश का पालन नहीं करवा पा रही है उलटे ही पीड़ित व्यक्ति पर ही दबाव बना कर मामले को ख़त्म करना चाह रही है अब इस तरह के पुलिस के कार्य से आम लोगों का विश्वास कानून व्यवस्था पर कैसे बना रह पाएगा यह एक बहुत बड़ा सवाल है जनपद के तेजतर्रार और ईमानदार छवि के मालिक पुलिस अधीक्षक डॉ गौरव ग्रोवर के आदेश को भी कोतवाली पुलिस नहीं मान रही है ऐसे में लोगों को न्याय कहाँ से मिलेगा यह बहुत बड़ा सवाल है।

Advertisement

Related posts

सपा का दामन छोड़ प्रसपा का दामन थामा,,,,

शासन के निर्देश पर जिले में खुलीं ओपीडी और प्राइवेट क्लीनिक, डॉक्टर बोले ‘बचाव ही है कोरोना का उपचार’

धनतेरस पर दिखी बाजारों में रौनक……

एक टिप्पणी छोड़ दो