ब्रेकिंग न्यूज़

पत्रकारों को मिलने वाली सुविधाओं से मान्यता प्राप्त की बाध्यता हटे, पत्रकारों के निधन पर आर्थिक सहायता बढ़ाने व परिजनों को स्वास्थ्य सुविधा दी जाने की कीगई मांग,,,,,

•पत्रकारों को मिलने वाली सुविधाओं से मान्यता प्राप्त की बाध्यता हटे, पत्रकारों के निधन पर आर्थिक सहायता बढ़ाने व परिजनों को स्वास्थ्य सुविधा दी जाने की कीगई मांग,,,,,

नितिन श्रीवास्तव

Advertisement

लखनऊ : (NNI 24) उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लंबे अरसे के बाद प्रदेश के पत्रकारों की सुध ली है । पिछले दिनों उन्होंने प्रदेश के पत्रकारों के लिए 5 लाख का स्वास्थ्य बीमा और कोरोना से किसी पत्रकार की मृत्यु होने पर उसके परिजनों को 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है । परंतु लंबे समय से पत्रकारों के लिए सुविधाओं की मांग कर रहे आईएफडब्ल्यूजे व यूपी वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ने कई बार मुख्यमंत्री सहित अपर मुख्य सचिव सूचना को मांग पत्र देती रही है ।
लखनऊ वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन के मंडल अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश राज्य मान्यता प्राप्त संवाददाता समिति के सचिव शिवशरन सिंह ने कहा है कि अभी हमारी मांगे पूरी नही हुई है । उन्होंने प्रदेश सरकार द्वारा दी गयी सुविधाओं में मान्यता प्राप्त की बाध्यता खत्म किए जाने की मांग दोहराई है। इसके साथ ही पत्रकारों और उनके परिजनों को पीजीआई, डॉ० राम मनोहर लोहिया इंस्टीट्यूट, केजीएमसी सहित अन्य संस्थानों में निःशुल्क इलाज और 60 साल के बाद पत्रकारों को पेंशन देने जैसी सुविधा जिसमें भी मान्यता प्राप्त पत्रकार की कोई बाध्यता न रखी जाए, जैसी मांगों को लेकर एक पत्र अपर मुख्य सचिव सूचना नवनीत सहगल को सौंपा है।
शिव शरन सिंह ने कहा कि उनका संगठन इंडियन फेडरेशन ऑफ वर्किंग जर्नलिस्ट ( IFWJ ), उत्तर प्रदेश वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ( UPWJU ) व् लखनऊ वर्किंग जर्नलिस्ट यूनियन ( LWJU ) देश व् प्रदेश में पत्रकारों के हितों की लंबे अरसे से लड़ाई लड़ रहा हैं । शिव शरन सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का धन्यवाद देते हुए कहा कि हमारी मांग पर उत्तर प्रदेश के पत्रकारों को 5 लाख रुपये का स्वास्थ्य बीमा देने और कोरोना से मृत्यु होने पर पत्रकार के परिजनों को 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने की घोषणा की है । शिव शरण सिंह ने कहा कि पत्रकारों को दी गयी इन सभी सुविधाओं में मान्यता की बाध्यता वाली सीमा नही होनी चाहिए और जिला, तहसील डेस्क स्तर के सभी पत्रकारों को इसका लाभ मिलना चाहिए ।
उन्होंने कहा कि हमारी तो मांग है कि राज्य कर्मचारियों, डॉक्टरों, नर्सो, पुलिस कर्मियों की तरह पत्रकारों को भी प्रदेश सरकार कोरोना योद्धा घोषित करे जिसमें उन्हें कोरोना से मौत होने पर 50 लाख रुपये दिए जाने का प्रावधान हैं । साथ ही किसी भी पत्रकार साथी के आकस्मिक निधन पर 25 लाख रू की सहायता राशि देने की भी मांग की गयी है। इसके अतिरिक्त उन्होंने राज्य सरकार के समक्ष मांग रखते हुए कहा कि वरिष्ठ पत्रकारों को पेंशन और पत्रकारों को और उनके परिजनों का पीजीआई, लोहिया इंस्टीट्यूट, केजीएमसी सहित अन्य संस्थानों में निःशुल्क इलाज होना चाहिए जिसमें भी मान्यता प्राप्त पत्रकार की बाध्यता खत्म होनी चाहिए । उन्होंने कहा कि वर्तमान में भारत में 12 राज्यों में 60 वर्ष से ऊपर के रिटायर्ड पत्रकारों को 6 से 12 हजार रुपये प्रति माह पेंशन दी जा रही है । संगठन की पूर्व में मुलाकात के दौरान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने स्वयं कहा था कि वह पत्रकारों को निजी आवास देने पर भी विचार कर रहे है । उन्होंने कहा कि वे अपनी मांगों को लेकर शीघ्र ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से मिलेंगे और उनसे पत्रकारों के हितों की मांगों को पूरा करने का अनुरोध करेंगे ।

Advertisement

Related posts

मीडिया इंडस्ट्री नोएडा के प्रेस क्लब के लिये हुआ चुनावी शंखनाद,नामांकन प्रक्रिया हुई पूर्ण,दो पैनल आये मैदान में,19 जनवरी को होगा मतदान,,,,,,

Abdul Aziz Editor Nation News India 24

गरीबों-मज़दूरों की मदद करने में कानपुर सबसे आगे : मोहम्मदी यूथ ग्रुप*

बहराइच। सेठ एम0 आर0 जयपुरिया स्कूल में अध्ययनरत छात्र-छात्राओं के लिए पाँच दिवसीय निःशुल्क दंत परीक्षण शिविर का आयोजन लॉयन्स क्लब बहराइच सिटी के तत्वावधान में आयोजित हुआ। शिविर में बहराइच जिले के प्रसिद्ध दंत विशेषज्ञ डॉ0 सचिन अग्रवाल एवं उनकी पूरी टीम ने लगभग 450 विद्यार्थियों का दंत परीक्षण कर दवायें व दाँतो की सुरक्षा के उपायों पर जानकारी दी । डॉ0 सचिन अग्रवाल ने स्मार्ट क्लास के माध्यम से बड़े ही रोचक ढंग से दांतों में होने वाले विभिन्न रोगों की जानकारी दी। उन्होंने बताया कि यदि हमारे दांतों में सड़न है तो उसका असर हमारे हृदय पर होता है तथा यदि गर्भवती महिला के दांतों में सड़न या तकलीफ हो तो होने वाले बच्चे पर भी इसका असर पड़ सकता है। डॉ0 अग्रवाल ने बताया कि दांतों से सम्बन्धित पायरिया नामक रोग हो सकता है। दांतों से खून आना, मसूड़ों में सूजन एवं दुर्गंध आदि लक्षण दिखाई देते हैं। साथ ही फ्लोरीन का हमारे दांतों पर गहरा प्रभाव पड़ता है। कोल्ड ड्रिंक और फास्ट फूड भी हमारे दांतों के लिए बेहद हानिकारक है। ब्रश करने के तरीकों की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि हमें हल्के हाथों से ब्रश करना चाहिए। दांतों पर अत्यधिक दबाव नहीं डालना चाहिए। हर तीन महीने में हमें अपना ब्रश बदल देना चाहिए। 45 डिग्री का कोण बनाते हुए दांतों को अंदर एवं बाहर दोनों ओर से कम से कम तीन मिनट तक ब्रश से साफ करना चाहिए। सेठ जयपुरिया विद्यालय के प्राचार्य ने कहा कि यदि हमें सुंदर और चमकीले दांत चाहिए तो हमें निरंतर इनकी देखभाल करना होगा। हमारे दांतों की सफाई के अलावा जीभ की भी सफाई जरूरी है, जिससे मुंह से दुर्गंध नहीं आती है। उंगली या ब्रश से धीरे-धीरे मसूड़ों को मालिश करने से वे मजबूत होते हैं। हमें दांतों की सफाई व सुरक्षा का हर संभव प्रयास करना चाहिए। हमें ज्यादा मीठी व स्टार्च वाली चीजें नहीं खानी चाहिए। डेंटल कैम्प में लायन आदर्श अग्रवाल, सन्तोष अग्रवाल, श्यामकरन टेकडीवाल,कमल शेखर गुप्ता अजय अग्रवाल, सुनील टेकडीवाल, सुमित गोयल, हनुमान गोयल, राकेश मित्तल,अध्यक्ष नीलेश तायल, सचिव राजेश अग्रवाल कार्यक्रम को सफल बनाने में विद्यालय के पूरे स्टॉफ एवं कर्मचारियों का सराहनीय योगदान रहा।